SEOClerks
Hindu Music

Om Jai Jagadish Hare Aarti Bhajan (ॐ जय जगदीश हरे) HD – Nepali w/ Lyrics

SEOClerks



ॐ जय जगदीश हरे, प्रभु जय जगदीश हरे।
प्रभू का चरण उपाशक, हरि का चरण उपाशक।
कति कति पार तरे, ॐ जय जगदीश हरे।

मनको थाल मनोहर, प्रेम रूप बाती, प्रभु प्रेम रूप बाती।
भाब कपुर छ मंगल, भाब कपुर छ मंगल।
अारती सब भाती, ॐ जय जगदीश हरे।

नित्य नीरंजन निर्मल कारण अबिनाशी, प्रभु कारण अबिनाशी।
सरण गत प्रति पालक, सरण गत प्रति पालक।
चिन्मय सुख राशी, ॐ जय जगदीश हरे।

श्रिष्टि स्थिती लय कर्ता, त्रिभुवनका स्वामी, प्रभु त्रिभुवनका स्वामी।
भक्ति सुधा बर्साउ, प्रेम सुधा बर्साउ।
सरण प-याैँ हामी, ॐ जय जगदीश हरे।

आँशु र भाव निबारक, तारक सुख दाता, प्रभु तारक सुख दाता।
गुण अनु रुप तिमी हाै, गुण अनु रुप तिमी हाै।
हरि हर हौ धाता, ॐ जय जगदीश हरे।

यूग यूग पालना गर्छाै, अगणित रुप धरी, प्रभु अगणित रुप धरी।
लिला मय रस बिग्रह, लिला मय रस बिग्रह।
करुणा मुर्ति हरि, ॐ जय जगदीश हरे।

समदा शान्ति प्रदायक, सज्जन हितकारी, प्रभु सज्जन हितकारी।
चरण सरण अब पाँउ, चरण सरण अब पाँउ।
प्रभु भब भय हारी, ॐ जय जगदीश हरे।

भाब मनाेहर, देउ सादक फलदायी, प्रभु देउ सादक फलदायी।
जिवन धन्य बनोस प्रभु, जिवन धन्य बनोस प्रभु।
प्रभु पद सेवा पाई, ॐ जय जगदीश हरे।

संयम सुर सरिताको, अविरल धाराबहोस, प्रभु अविरल धाराबहोस।
जति जति जन्म भए पनि, जहाँ जहाँ जन्म भए पनि।
प्रभुमा प्रेम रहोस, ॐ जय जगदीश हरे।

प्रेम सहित शुभ आरति, जसले नित्य ग-यो, प्रभु जसले नित्य ग-यो ।
दिन दिन निर्मल बन्दै, प्रति दिन पावन बन्दै।
त्यो भब सिन्दू त-यो, ॐ जय जगदीश हरे।

source

Tags
Show More
SEOClerks

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker